आज नौबतपुर पर सकारात्मक क्या लिखा जाये? – बी. बी. रंजन

बहरहाल कई विरोधी स्वरों के बीच नौबतपुर में तीन दिनों की बंदी का आगाज हो गया है.


Image result for naubatpur hospital


Image result for रामकृपाल यादवप्रशासन हस्तक्षेप कर दूकानों को खुलवाये, स्थिति को नियंत्रित करे: रामकृपाल.

 

 


पांच-छह दुकानें खुलतीं हैं. लोगों में परेशानी से उबाल है. दवा दूकानें बंद हैं, सब्जी मंडी लापता है, किराना दूकानों पर ताले पड़े हैं. प्रशासन मूकदर्शक है. गंभीर रूप से घायल बाइक सवार युवक को मजदूर अस्पताल लाकर अपनी संवेदना तो साबित करते हैं, लेकिन पढ़े-लिखे डॉक्टर गायब है. सुशासन बाबू की सरकार में जान की कीमत क्या है, आप समझ सकते है. अनर्गल प्रलाप करनेवाले कई छुटभैये राजनेता नौबतपुर की दुर्दशा पर बिल में घुस जाते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *