कल्याणपुर के किसानों के ऊपर ठेकेदार आपदा.

मंजूषा रंजन, कल्याणपुर. सचिव नई सुबह. प्रशासिका, पालीगंज एक्सप्रेस.

आत्महत्या को विवश किसानों को ठेकेदारों ने भी लूटा.

कल्याणपुर के किसानों को ठेकेदार आपदा. गरीबी, सुखाड़, बाढ़ और प्राकृतिक आपदा से त्रस्त किसानों को ठेकेदारो ने भी एक आपदा से साक्षात्कार करा दिया है.
कल्याणपुर से पैपुरा को जोड़ती सड़क के बीच लगभग 600 मीटर तक के मार्ग का हाल के दिनों में पक्कीकरण हुआ है. कल्याणपुर पीपल से इजरता गाँव के प्रवेश मार्ग तक दोनों ओर किसानों के खेत आहार बना दिए गए हैं. गैरजिम्मेदार ठेकदार ने मिट्टी की ढ़ुलाई बाहर से नहीं की, लेकिन किसानों के खेतों को एक पोखरा का रूप दे दिया. आत्महत्या को मजबूर किसानों को आज प्रति कठ्ठा मिट्टी की भराई में बीस हजार रूपये का खर्च आयेगा. ठेकेदारों ने किसानों को सांसत में डालकर अपन उल्लू सीधा कर लिया है. गिट्टी और अलकतरा की बिछाई भी निर्धारित मापदंड से कम है. सड़क की चौड़ाई असमान है. गुणवत्ता के साथ पूरी तरह समझौता किया गया है. किसानों को तबाह करने की इबादत लिखी गयी है. या यों कहें की किसानों का शोषण कर अपनी मोटी हिस्सेदारी निश्चित कर ली गई है. साइट तो ऐसा ही कहता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *