पटाखों के पैसों से गरीबों के घरों में दीया जलायें, प्रदूषण न फैलायें.: बी.बी. रंजन

Image result for DIWALI OF MILLIONAIRESधनवालों की गूंज में दबकर रह गई आह गरीबों की.



हम उन अँधेरे घरों को रोशनी देने की कोशिश करे जहाँ सदियों से खुशहाली की अपेक्षा है. उन घरों को रोटी देने का प्रयास करे जहाँ चूल्हों के जलने की गारंटी नहीं है. उन बच्चों को शिक्षा प्रदान करने में इन पैसों का सदुपयोग करें, जिनकी शिक्षा पैसों के अभाव में बंद हो गई है. यही हमारी सच्चे अर्थों में दीपावली होगी.


Image result for poors in india Image result for DIWALI OF MILLIONAIRES


पालीगंज एक्सप्रेस इस मुहिम की सफलता के लिए आपसे सामने नतमस्तक है.


Image result for DIWALI OF MILLIONAIRESपालीगंज. 30 अक्टूबर को दीपावली है. देश की एक भारी-भरकम राशि हम पटाखों की धुंआ में उड़ा देते हैं. हमारे गरीब भाई-बंधुओं के घरों में दीपावली के अवसर पर भी खाने के लाले पड़े होते हैं. देश के करोड़ों रूपये पटाखों में उड़ा कर वातावरण में जहर घोल दिया जाता है. आज पीने का पानी प्रदूषित है. आज हवा जहरीली है. अनाज और दूध की शुद्धता भी कठघरे में है.


Image result for DIWALI OF MILLIONAIRES


सामाजिक न्याय की सरकार के मंत्री दीपावली शान-शौकत से मनाते हैं. गरीबों के मसीहा होने का दंभ भरनेवाले लोग पैसों को लुटाकर अपनी औकात दिखाते हैं. लेकिन हमारे देश के हर मार्ग में अनगिनत गरीबखानों में अँधेरा होता है. दो जून की रोटी को मुहताज लोग ठण्ड भरी रात में सडकों पर ठिठुरते हैं और गरीबों के ठेकेदारों के घरों में पटाखों की आवाजें गुंजतीं हैं. धनवालों की गूंज में गरीबों की आह दब जाती है. चुनाव में इन गरीबों की भावना से खेलकर राजनीतिज्ञों की टीम उन्हें भूल जाती है.


Image result for poors in india    Image result for poors in india


सदियों से अंधेरगर्दी में डूबे घरों में दीया जलाने का नारा देनेवाले रामविलास पासवान ने फ़िल्मी दुनियां में अपने घर के बुझते चिराग को राजनीति के क्षेत्र में जला लिया है, लेकिन नारों की सच्चाई खोखली रह गई है. इस बार की दीवाली में हम पटाखे न छोड़ें. पर्यावरण की रक्षा की सौगंध लेते हुए हम उन अँधेरे घरों को रोशनी देने की कोशिश करे जहाँ


Image result for DIWALI OF MILLIONAIRES


सदियों से खुशहाली की अपेक्षा है. उन घरों को रोटी देने का प्रयास करे जहाँ चूल्हों के जलने की गारंटी नहीं है. उन बच्चों को शिक्षा प्रदान करने में इन पैसों का सदुपयोग करें, जिनकी शिक्षा पैसों के अभाव में बंद हो गई है. यही हमारी महानता है, यही हमारी सच्चे अर्थों में दीपावली होगी. पालीगंज एक्सप्रेस इस मुहिम की सफलता के लिए आपसे सामने नतमस्तक है.

One thought on “पटाखों के पैसों से गरीबों के घरों में दीया जलायें, प्रदूषण न फैलायें.: बी.बी. रंजन

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *