शराब पीने की एक दिन की छूट. परसों से फिर हो सकती है शराबबंदी.

हाईकोर्ट ने देशी शराबबंदी पर कुछ नहीं कहा है. दो अक्टूबर 2016 से एक और शराबबंदी एक्ट लागू करने की बात है. इस एक्ट को सदन से पारित करा लिया गया है. राज्यपाल की सहमति मिल गई है. इस एक्ट के खिलाफ कोर्ट में कोई मामला नहीं था. यह एक्ट आज भी स्टैंड कर रहा है.

5 अप्रैल 2016 को विदेशी शराब पर प्रतिबन्ध लगाया गया था. व्यावसायियों ने इसके खिलाफ पटना हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी. न्यायालय ने इस एक्ट को अवैध करार दिया है.

शराबबंदी के बूते राजनीति कर रहे नीतीश कुमार के पास दो अक्टूबर 2016 से लागू होनेवाले एक्ट का सहारा अभी भी बरकरार है और इस एक्ट का लाभ उठाकर सरकार परसों से एक बार फिर शराबबंदी लागू कर सकती है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *